हिन्दी भाषी संघ (187)

9200664899?profile=RESIZE_710x

9200665872?profile=RESIZE_710x

अध्याय एक – यदुवंश को शाप

1 श्रील शुकदेव गोस्वामी ने कहा: भगवान श्रीकृष्ण ने बलराम से मिलकर तथा यदुवंशियों से घिरे रहकर अनेक असुरों का वध किया। तत्पश्चात, पृथ्वी का भार हटाने के लिए भगवान ने कुरुक्षेत्र के उस महान युद्ध की योजना की, जो कुरुओं तथा पाण्डवों के बीच हुआ।

2 चूँकि पाण्डुपुत्र अपने शत्रुओं के अनेकानेक अपराधों से यथा – कपटपूर्ण जुआ खेलने, वचनों द्वारा अपमान, द्रौपदी के केशकर्षण तथा अनेक क्रूर अत्याचारों से क्रुद्ध थे, इसलिए परमेश्वर ने उन पाण्डवों को अपनी इच्छा पूरी करने के लिए कारण-रू

Read more…

9190964463?profile=RESIZE_584x

अध्याय नब्बे – भगवान कृष्ण की महिमाओं का सारांश

1-7 श्रील शुकदेव गोस्वामी ने कहा: लक्ष्मीपति भगवान सुखपूर्वक अपनी राजधानी द्वारका पुरी में रहने लगे, जो समस्त ऐश्वर्यों से युक्त थी और गणमान्य वृष्णियों तथा आलंकारिक वेषभूषा से सजी उनकी पत्नियों से आपूरित थी। नगर के प्रमुख मार्गों में मद चुवाते उन्मत्त हाथियों और सजे-धजे घुड़सवारों, पैदल सैनिकों तथा सोने से सुसज्जित चमचमाते रथों पर सवार सिपाहियों की भीड़ लगी रहती। शहर में पुष्पित वृक्षों की पंक्तियों वाले अनेक उद्यान तथा वाटिकाएँ थी, जहाँ भौंरे गुनग

Read more…

9190951689?profile=RESIZE_584x

अध्याय नवासी – कृष्ण तथा अर्जुन द्वारा ब्राह्मण पुत्रों का वापस लाया जाना

1 श्रील शुकदेव गोस्वामी ने कहा: हे राजन, एक बार जब सरस्वती नदी के तट पर ऋषियों का समूह वैदिक यज्ञ कर रहा था, तो उनके बीच यह वाद-विवाद उठ खड़ा हुआ कि तीन मुख्य देवों में से सर्वश्रेष्ठ कौन है?

2 हे राजन, इस प्रश्न का हल ढूँढ निकालने के इच्छुक ऋषियों ने ब्रह्मा के पुत्र भृगु को उत्तर खोजने के लिए भेजा। वे सर्वप्रथम, अपने पिता ब्रह्मा के दरबार में गये।

3 यह परीक्षा लेने के लिए ब्रह्माजी कहाँ तक सतोगुण को प्राप्त हैं, भृगु ने

Read more…

9190949096?profile=RESIZE_400x

अध्याय अट्ठासी -- वृकासुर से शिवजी की रक्षा  

1 राजा परीक्षित ने कहा: जो देवता, असुर तथा मनुष्य परम वैरागी शिव की पूजा करते हैं, वे सामान्यतया धन सम्पदा तथा इन्द्रिय-तृप्ति का आनन्द प्राप्त करते हैं, जबकि लक्ष्मीपति भगवान हरि की पूजा करने वाले, ऐसा नहीं कर पाते।

2 हम इस विषय को ठीक से समझना चाहते हैं, क्योंकि यह हमें अत्यधिक परेशान किये हुए है। दरअसल इन विपरीत चरित्रों वाले दोनों प्रभुओं की पूजा करने वालों को, जो फल मिलते हैं, वे अपेक्षा के विपरीत होते हैं।

3 श्रील शुकदेव गोस्वामी ने कहा: शिवजी

Read more…

9190922877?profile=RESIZE_584x

अध्याय सत्तासी -- साक्षात वेदों द्वारा स्तुति 

(1-30)

1 श्री परीक्षित ने कहा: हे ब्राह्मण, भला वेद उस परम सत्य का प्रत्यक्ष वर्णन कैसे कर सकते हैं, जिसे शब्दों द्वारा बतलाया नहीं जा सकता? वेद भौतिक प्रकृति के गुणों के वर्णन तक ही सीमित हैं, किन्तु ब्रह्म समस्त भौतिक स्वरूपों तथा उनके कारणों को लाँघ जाने के कारण इन गुणों से रहित है।

2 श्रील शुकदेव गोस्वामी ने कहा: भगवान ने जीवों की भौतिक बुद्धि, इन्द्रियाँ, मन तथा प्राण को प्रकट किया, जिससे वे अपनी इच्छाओं को इन्द्रिय-तृप्ति में लगा सकें, सकाम कर

Read more…

अध्याय सत्तासी -- साक्षात वेदों द्वारा स्तुति

(श्लोकार्थ 31 -- 50) 

31 न तो प्रकृति, न ही उसका भोग करने के लिए प्रयत्नशील आत्मा कभी जन्म लेते हैं, फिर भी जब ये दोनों संयोग करते हैं, तो जीवों का जन्म होता है, जिस तरह जहाँ तहाँ जल से वायु मिलती है, वहाँ वहाँ बुलबुले बनते हैं। जिस तरह नदियाँ समुद्र में मिलती हैं या विभिन्न फूलों का रस शहद में मिल जाता है, उसी तरह ये सारे बद्धजीव अन्ततोगत्वा अपने विविध नामों तथा गुणों समेत आप ब्रह्म में पुनः लीन हो जाते हैं।

32 विद्वान आत्माएँ, जो यह समझते हैं कि आपकी

Read more…

 

9190918058?profile=RESIZE_584x

अध्याय छियासी – अर्जुन द्वारा सुभद्रा–हरण तथा कृष्ण द्वारा अपने भक्तों को आशीर्वाद दिया जाना

1 राजा परीक्षित ने कहा: हे ब्राह्मण, हम जानना चाहेंगे कि किस तरह अर्जुन ने बलराम तथा कृष्ण की बहन से विवाह किया, जो मेरी दादी थीं।

2-3 श्रील शुकदेव गोस्वामी ने कहा: दूर दूर तक यात्रा करते हुए और विविध तीर्थस्थानों का दर्शन करके अर्जुन प्रभास आये। वहाँ उन्होंने सुना कि बलराम अपने मामा की लड़की का विवाह दुर्योधन के साथ करना चाहते हैं और कोई भी इसका समर्थन नहीं करता है। अर्जुन स्वयं उसके साथ विवाह करना चा

Read more…

9190909490?profile=RESIZE_584x

अध्याय पिचासी – कृष्ण द्वारा वसुदेव को उपदेश दिया जाना तथा देवकी-पुत्रों की वापसी

 

1-5 श्री बादरायणि ने कहा: एक दिन वसुदेव के दोनों पुत्र संकर्षण तथा कृष्ण उनके पास आये और उनके चरणों पर नतमस्तक होकर प्रणाम किया। वसुदेव ने बड़े ही स्नेह से उनका सत्कार किया। अपने दोनों पुत्रों की शक्ति के विषय में महर्षियों के कथन सुनकर तथा उनके वीरतापूर्ण कार्यों को देखकर वसुदेव को उनकी दिव्यता पर पूर्ण विश्वास हो गया। अतः वसुदेव ने कहा: हे कृष्ण, हे कृष्ण, हे योगिश्रेष्ठ, हे नित्य संकर्षण, मैं जानता हूँ कि

Read more…

9190895074?profile=RESIZE_584x

अध्याय चौरासी -- कुरुक्षेत्र में ऋषियों के उपदेश  

1-10  श्रील शुकदेव गोस्वामी ने कहा: पृथा, गान्धारी, द्रौपदी, सुभद्रा, अन्य राजाओं की पत्नियाँ, भगवान की ग्वालिन सखियाँ, सभी जीवों के आत्मा भगवान श्रीकृष्ण के प्रति उनकी रानियों के अगाध प्रेम को सुनकर चकित थीं और उनके नेत्रों में आँसू डबडबा आये।  जब स्त्रियाँ स्त्रियों से और पुरुष पुरुषों से परस्पर बातें कर रहे थे, तो अनेक मुनिगण वहाँ आ पधारे। वे सभी कृष्ण तथा बलराम का दर्शन पाने के लिए उत्सुक थे। इनमें द्वैपायन, नारद, च्यवन, देवल, असित, विश्वामि

Read more…

9190887452?profile=RESIZE_584x

अध्याय तिरासी – कृष्ण की रानियों से द्रौपदी की भेंट

1 श्रील शुकदेव गोस्वामी ने कहा: इस तरह गोपियों के आध्यात्मिक गुरु तथा उनके जीवन के गन्तव्य भगवान कृष्ण ने उन पर अपनी कृपा प्रदर्शित की। तत्पश्चात वे युधिष्ठिर तथा अपने अन्य सभी सम्बन्धियों से मिले और उनसे उनकी कुशलता पूछी।

2 ब्रह्माण्ड के स्वामी के चरणों को देखकर समस्त पापों से मुक्त राजा युधिष्ठिर तथा अन्यों ने अत्यधिक सम्मानित अनुभव करते हुए उनके प्रश्नों का प्रसन्नतापूर्वक उत्तर दिया।

3 भगवान कृष्ण के सम्बन्धियों ने कहा: हे प्रभु, उन लोगों

Read more…

9190805657?profile=RESIZE_400x

अध्याय बयासी - वृन्दावनवासियों से कृष्ण तथा बलराम की भेंट

1 श्रील शुकदेव गोस्वामी ने कहा: एक बार जब बलराम तथा कृष्ण द्वारका में रह रहे थे, तो ऐसा विराट सूर्य-ग्रहण पड़ा मानो, भगवान ब्रह्मा के दिन का अन्त हो गया हो।

2 हे राजन, पहले से इस ग्रहण के विषय में जानते हुए अनेक लोग पुण्य अर्जित करने की मंशा से समन्तपञ्चक नामक पवित्र स्थान में गये।

3-6 पृथ्वी को राजाओं से विहीन करने के बाद योद्धाओं में सर्वोपरि भगवान परशुराम ने समन्तपञ्चक में राजाओं के रक्त से विशाल सरोवरों की उत्पत्ति की। यद्यपि परशुराम प

Read more…

9190792480?profile=RESIZE_584x

अध्याय इक्यासी -- भगवान द्वारा सुदामा ब्राह्मण को वरदान

1-2 श्रील शुकदेव गोस्वामी ने कहा: भगवान हरि अर्थात कृष्ण सभी जीवों के हृदयों से भलीभाँति परिचित हैं और वे ब्राह्मणों के प्रति विशेष रूप से अनुरक्त रहते हैं। समस्त सन्त-पुरुषों के लक्ष्य भगवान सर्वश्रेष्ठ द्विज से इस तरह बातें करते हुए हँसने लगे और अपने प्रिय मित्र ब्राह्मण सुदामा की ओर स्नेहपूर्वक देखते हुए तथा मुसकाते हुए निम्नलिखित शब्द कहे।

3 भगवान ने कहा: हे ब्राह्मण, तुम अपने घर से मेरे लिए कौन-सा उपहार लाये हो? शुद्ध प्रेमवश अपने भक

Read more…

9190784852?profile=RESIZE_400x

अध्याय अस्सी – द्वारका में भगवान श्रीकृष्ण से ब्राह्मण सुदामा की भेंट  

1 राजा परीक्षित ने कहा: हे प्रभु, हे स्वामी, मैं उन असीम शौर्य वाले भगवान मुकुन्द द्वारा सम्पन्न अन्य शौर्यपूर्ण कार्यों के विषय में सुनना चाहता हूँ।

2 हे ब्राह्मण, जो जीवन के सार को जानता है और इन्द्रिय-तृप्ति के लिए प्रयास करने से ऊब चुका हो, वह भगवान उत्तमश्लोक की दिव्य कथाओं को बारम्बार सुनने के बाद भला उनका परित्याग कैसे कर सकता है?

3 असली वाणी वही है जो भगवान के गुणों का वर्णन करती है, असली हाथ वे हैं, जो उनके लिए कार्य

Read more…

9190757494?profile=RESIZE_584x

अध्याय उन्यासी – भगवान बलराम की तीर्थयात्रा

1 श्रील शुकदेव गोस्वामी ने कहा: हे राजन, तब प्रतिपदा के दिन एक प्रचण्ड तथा भयावना झंझावात आया, जिससे चारों ओर धूल बिखर गई और सर्वत्र पीब की दुर्गन्ध फैल गई।

2 इसके बाद यज्ञशाला के क्षेत्र में बल्वल द्वारा भेजी गई घृणित वस्तुओं की वर्षा होने लगी। तत्पश्चात वह असुर हाथ में त्रिशूल लिए हुए आया।

3-4 विशालकाय असुर काले कज्जल के पिण्ड जैसा लग रहा था। उसकी चोटी तथा दाढ़ी पिघले ताम्बे जैसी थी, उसके भयावने दाँत थे तथा भौंहें गढ़े में घुसी थीं। उसे देखकर बलराम ने

Read more…

9190750261?profile=RESIZE_584x

अध्याय अठहत्तर – दन्तवक्र, विदूरथ तथा रोमहर्षण का वध

1-2 श्रील शुकदेव गोस्वामी ने कहा: अन्य लोकों को गये हुए शिशुपाल, शाल्व तथा पौण्ड्रक के प्रति मैत्री-भाव होने से दुष्ट दन्तवक्र बहुत ही क्रुद्ध होकर युद्धभूमि में प्रकट हुआ। हे राजन, एकदम अकेला, पैदल एवं हाथ में गदा लिए उस बलशाली योद्धा ने अपने पदचाप से पृथ्वी को हिला दिया।

3 दन्तवक्र को पास आते देखकर भगवान कृष्ण ने तुरन्त अपनी गदा उठा ली। वे अपने रथ से नीचे कूद पड़े और आगे बढ़ रहे अपने प्रतिद्वन्द्वी को रोका, जिस तरह तट समुद्र को रोके रहता है।

Read more…

9118163064?profile=RESIZE_710x

अध्याय सतहत्तर – कृष्ण द्वारा शाल्व का वध  

1 श्रील शुकदेव गोस्वामी ने कहा: जल से अपने को तरोताजा करने के बाद, अपना कवच पहनकर तथा अपना धनुष लेकर भगवान प्रद्युम्न ने अपने सारथी से कहा, “मुझे वहीं वापस ले चलो, जहाँ वीर द्युमान खड़ा है।"

2 प्रद्युम्न की अनुपस्थिति में द्युमान उनकी सेना को तहस-नहस किये जा रहा था, किन्तु अब प्रदयुम्न ने द्युमान पर बदले में आक्रमण कर दिया और हँसते हुए आठ नाराच बाणों से उसे बेध दिया।

3 इन बाणों में से चार से उसने द्युमान के चार घोड़ों को, एक बाण से उसके सारथी को तथा दो अ

Read more…

9118159269?profile=RESIZE_584x

अध्याय छिहत्तर – शाल्व तथा वृष्णियों के मध्य युद्ध

1 श्रील शुकदेव गोस्वामी ने कहा: हे राजन, अब उन भगवान कृष्ण द्वारा सम्पन्न एक अन्य अद्भुत कार्य सुनो, जो दिव्य लीलाओं का आनन्द लेने के लिए अपने मानव शरीर में प्रकट हुए। अब सुनो कि उन्होंने किस तरह सौभपति का वध किया।

2 शाल्व शिशुपाल का मित्र था। जब वह रुक्मिणी के विवाह में सम्मिलित हुआ था, तो यदुवीरों ने उसे जरासन्ध तथा अन्य राजाओं समेत युद्ध में परास्त कर दिया था।

3 शाल्व ने समस्त राजाओं के सामने प्रतिज्ञा की, “मैं पृथ्वी को यादवों से विहीन कर द

Read more…

9118154288?profile=RESIZE_584x

अध्याय पचहत्तर – दुर्योधन का मानमर्दन

1-2 महाराज परीक्षित ने कहा: हे ब्राह्मण, मैंने आपसे जो कुछ सुना उसके अनुसार, एकमात्र दुर्योधन के अतिरिक्त, वहाँ एकत्रित समस्त राजा, ऋषि तथा देवतागण अजातशत्रु राजा के राजसूय उत्सव को देखकर परम हर्षित थे। हे प्रभु, कृपा करके मुझसे कहें कि ऐसा क्यों हुआ?

3 श्री बादरायणि ने कहा: तुम्हारे सन्त सदृश दादा के राजसूय यज्ञ में उनके प्रेम से बँधे हुए उनके पारिवारिक सदस्य उनकी ओर से विनीत सेवा कार्य में संलग्न थे।

4-7 भीम रसोई की देख-रेख कर रहे थे, दुर्योधन कोष की देखभ

Read more…

9118139658?profile=RESIZE_584x

अध्याय चौहत्तर राजसूय यज्ञ में शिशुपाल का उद्धार 

1 श्रील शुकदेव गोस्वामी ने कहा: इस प्रकार जरासन्ध वध तथा सर्वशक्तिमान कृष्ण की अद्भुत शक्ति के विषय में भी सुनकर राजा युधिष्ठिर ने अत्यन्त प्रसन्नतापूर्वक भगवान से इस प्रकार कहा।

2 श्री युधिष्ठिर ने कहा: तीनों लोकों के प्रतिष्ठित गुरु तथा विभिन्न लोकों के निवासी एवं शासक आपके आदेश को, जो विरले ही किसी को मिलता है, सिर-आँखों पर लेते हैं।

3 वही कमलनेत्र भगवान आप उन दीन मूर्खों के आदेशों को स्वीकार करते हैं, जो अपने आपको शासक मान बैठते हैं, जबकि ह

Read more…

9118073488?profile=RESIZE_584x

अध्याय तिहत्तर – बन्दी गृह से छुड़ाये गये राजाओं को कृष्ण द्वारा आशीर्वाद

1-6 श्रील शुकदेव गोस्वामी ने कहा: जरासन्ध ने 20800 राजाओं को युद्ध में पराजित करके उन्हें बन्दीखाने में डाल दिया था जब ये राजा गिरिद्रोणी किले से बाहर आये, तो वे मलिन लग रहे थे और मैले वस्त्र पहने हुए थे। वे भूख के मारे दुबले हो गए थे, उनके चेहरे सूख गये थे और दीर्घकाल तक बन्दी रहने से अत्यधिक कमजोर हो गये थे। तब राजाओं ने भगवान को अपने समक्ष देखा। उनका रंग बादल के समान गहरा नीला था और वे पीले रेशम का वस्त्र पहने थे। वे अप

Read more…