ISKCON Desire Tree - Devotee Network

Connecting Devotees Worldwide - In Service Of Srila Prabhupada


E-Counselor
IDT E-Counselor - Hindi
  • Male
Share

IDT E-Counselor - Hindi's Devotee Friends

  • Mani
  • vikas
  • Shivangi Santilal
  • Shilpa Sharma
  • Akshay P
  • Ashwani Kumar
  • Avadhesh Kumar Parashar
  • Kashyapi Karan
  • Krsna Gokulananda dasi
  • Shravn Prabhu
  • madhan kumar

IDT E-Counselor - Hindi's Questions

गीता के कुछ महत्वपूर्ण श्लोक

Started this Krishna conscious discussion. Last reply by Bhuwan Dutt Bawari Nov 30, 2015. 1 Reply

क्या आपके पास भगवद-गीता है ? अगर नहीं है तो जरुर लीजिये, ये आपके जीवन से जुडी कई समस्याओं और…Continue

Tags: Srila, Prabhupada, Krishna, is, it

 

IDT E-Counselor - Hindi's Page

Profile Information

Name / Initiated name
राधा रसिकराज दास (Radha Rasikraj Das)
Daily number of rounds of Hare Krishna mahamantra.
१६
When, where and how did you come into contact with the Hare Krishna Movement?
दिल्ली में कॉलेज में पढ़ते वक़्त एक मित्र द्वारा
Name the nearest or most frequently Visited ISKCON temple/ centre and name few of the devotees whom you know.
मीरा रोड
वैष्णव सेवा प्रभु
अभिराम प्रभु
विश्वरूप प्रभु
Please describe yourself so that other like minded devotees can find you.
श्रील प्रभुपाद द्वारा स्थापित कृष्ण भक्ति (हरे कृष्ण आंदोलन) को हर गाँव एवं शहर तक पहुँचाना ।
What are your expectations from this community?
भक्तों के संग में मैं भगवान कृष्ण की भक्ति और तीव्रता से कर सकूँ एवं नए लोगों को कृष्ण भक्ति का प्रचार कर सकूँ ।

IDT E-Counselor - Hindi's Blog

"निष्ठावान भक्तों के लक्षण"

Posted on September 17, 2015 at 8:27pm 0 Comments

श्रीमद भगवतम् के प्रथम स्कंध में निष्ठावान भक्तों के लक्षण उल्लिखित हैं । हमें यह पढ़कर, भक्ति में अपनी निष्ठा बढ़ाने की प्रेरणा मिलती है ।

** एक निष्ठावान भक्त को चाहिए कि वह उपनिषद, वेदांत जैसे वैदिक साहित्य, पूर्व आचायों एवं गोस्वामियों द्वारा संकलित ग्रंथों का श्रवण करें । ऐसे साहित्य का श्रवण किये बिना मनुष्य सच्ची उन्नति नहीं कर पाता । श्रवण एवं आदेशों का…

Continue

"औपचारिक जप" का अंत

Posted on September 9, 2015 at 8:43pm 1 Comment



श्रील प्रभुपाद ने एक बार नक़ल करके बताया कि जब हमारा जप करने का मन न हो रहा हो तो, कैसे हम ध्यान, एकाग्रता और उचित उच्चारण के बिना जप करते हैं । यह कुछ ऐसा होता है, निश निश, राम राम, निश निश, राम राम । इस से हमारी इस मनःस्थिति का पता चलता है, "मुझे कुछ और करना था परन्तु अभी जप करना है ।" और मन में हम सोच रहे होते हैं की किसी तरह यह जप खत्म हो । हम सभी यह करते हैं और यह बद…

Continue

मंदिरों में अधिक दान देने वालों के लिए विशेष पंक्ति क्यों ?

Posted on September 7, 2015 at 7:31pm 0 Comments

प्रश्न : क्यों मंदिरों में अधिक दान करने वालों के लिए विशेष पंक्ति होती है? क्या भगवान के घर में सब एक समान नहीं हैं?

उत्तर : यह प्रश्न जन्माष्टमी के दिन किसी व्यक्ति ने मुझसे पूछा । उस समय तो मैंने उसको संछिप्त में समझा दिया परन्तु यह प्रश्न कई बार मैंने सुना है और लोगों को विचलित होते हुए भी देखा है । अगर हम शांत मन से निम्नलिखित बिन्दुओं पर विचार करें…

Continue

Comment Wall (2 comments)

Hare Krishna! You need to be a member of ISKCON Desire Tree - Devotee Network to add comments!

Join ISKCON Desire Tree - Devotee Network

At 3:45pm on March 16, 2016,
Volunteer
Ram Charan Das
said…

Dear Devotee, Hare Krishna, dandvats. Please accept my humble obeisances. All glories to Srila Prabhupada. I do wish you a very happy Krishna conscious day today on your birthday and pray for you to have Krishna conscious years in the time to come, to let all your material and spiritual desires be fulfilled and for you to have this as your last birth in this material world. Take care, Gauranga, Radhe Radhe, Hari Hari, Hare Krishna.

Krshne matri astu - May your attention always be on Krsna....

At 1:00pm on May 21, 2015,
Volunteer
Ram Charan Das
said…

Hare Krishna dandvats, Prabhuji. Please accept my humble obeisances. All glories to Srila Prabhupada. I do hereby wish you all the best in Krishna consciousness, Gauranga, Radhe Radhe, Hari Bol! Hare Krishna.

 
 
 

Receive Daily Nectar

Online Statistics

Addon Services

For more details:
Click here 


Back to Godhead Magazine !

For more details:
English | Hindi

© 2019   Created by ISKCON desire tree network.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service