9020609690?profile=RESIZE_584x

अध्याय अड़तालीस - कृष्ण द्वारा अपने भक्तों की तुष्टि 

1 श्रील शुकदेव गोस्वामी ने कहा :   तदनन्तर सबके स्वामी भगवान कृष्ण ने सेवा करने वाली त्रिवक्रा को तुष्ट करना चाहा, अतः वे उसके घर गये।

2  त्रिवक्रा का घर ऐश्वर्ययुक्त साज-सामान से बड़ी शान से सजाया हुआ था उसमें झण्डियाँ, मोती की लड़ें, चँदोवा, सुन्दर शय्या (पलंग) तथा बैठने के आसन थे और सुगन्धित अगुरु, दीपक, फूल-मालाएँ तथा सुगन्धित चन्दन-लेप भी था।

3 जब त्रिवक्रा ने उन्हें अपने घर की ओर आते देखा तो वह हड़बड़ाकर तुरन्त ही अपने आसन से उठ खड़ी हुई। अपनी सखियों समेत आगे आकर उसने भगवान अच्युत को उत्तम आसन तथा पूजा की अन्य सामग्रियाँ अर्पित करते हुए उनका सत्कार किया।

4 उद्धव को भी सम्मानयुक्त आसन प्राप्त हुआ। चूँकि वे साधु सदृश पुरुष थे अतः उन्होंने उसका स्पर्श ही किया और फर्श पर बैठ गये। तब भगवान कृष्ण मानव समाज के आचारों (लोकाचार) का अनुकरण करते हुए ऐश्वर्यशाली पलंग पर बैठ गये।

5 त्रिवक्रा नहाकर, शरीर में लेप लगाकर, सुन्दर वस्त्र, आभूषण और मालाएँ पहनकर, सुगन्ध लगाने के बाद पान-सुपारी चबाकर और सुगन्धित पेय पीकर तैयार हुई। तब वह लजीली, लीलामयी हँसी तथा लुभाने वाली चितवनों से माधव के पास पहुँची।

इस नवीन सम्पर्क की प्रत्याशा से सशंकित तथा लजीली प्रेमिका को आगे आने के लिए बुलाते हुए भगवान ने कंगन से सुशोभित उसके हाथों को पकड़कर अपने पास बिठा लिया। त्रिवका की एकमात्र पवित्रता केवल इतनी ही थी कि उसने भगवान को लेप अर्पित किया था, जिसके फलस्वरूप उसे ऐसा अनुपम अवसर मिला।

7  अपनी बाहुओं से उसने श्रीकृष्ण का आलिंगन किया, जो आनन्द की मूर्ति हैं और इस तरह उसने अपनी दीर्घकालीन व्यथा को त्याग दिया।

8  केवल शरीर का लेप प्रदान करने से ही अलभ्य भगवान को इस प्रकार पाकर उस अभागी त्रिवक्रा ने स्वतंत्रता (मोक्ष) के उन स्वामी से याचना की।

9  त्रिवक्रा ने कहा: हे प्रियतम! आप यहाँ पर मेरे साथ कुछ दिन ठहरें और रमण करें। हे कमलनेत्र! मैं आपका साथ छोड़कर नहीं रह सकती।

10  सबका मान रखने वाले कृष्ण ने त्रिवक्रा का अभिवादन किया और तब उद्धव समेत अपने अत्यन्त समृद्धिशाली धाम को लौट आये।

11 सामान्यतया समस्त ईश्वरों के परम ईश्वर भगवान विष्णु तक पहुँच पाना कठिन है। अतः जो व्यक्ति उनकी समुचित पूजा करने के बाद उनसे इन्द्रियतृप्ति का वर माँगता है, वह निश्चित रूप से कम बुद्धि वाला (दुर्बुद्धि) है क्योंकि वह तुच्छ फल से तुष्ट हो जाता है।

12  तत्पश्चात भगवान कृष्ण कुछ कार्य कराने की इच्छा से अक्रूर के घर बलराम और उद्धव के साथ गये। भगवान अक्रूर को भी तुष्ट करना चाहते थे।

13-14 जब अक्रूर ने अपने ही सम्बन्धियों एवं पुरुष शिरोमणियों को दूर से आते देखा तो वे हर्षपूर्वक उठकर खड़े हो गये। उनको गले मिलने आलिंगन और स्वागत करने के बाद अक्रूर ने कृष्ण और बलराम को नमस्कार किया और बदले में उन दोनों ने उनका अभिवादन किया।  जब उनके अतिथि आसन ग्रहण कर चुके थे तो उन्होंने शास्त्रीय नियमों के अनुसार उनकी पूजा की।

15-16 हे राजन, अक्रूर ने भगवान कृष्ण तथा बलराम के चरण पखारे और तब उस चरणोदक को अपने सिर पर छिड़का। उन्होंने उन दोनों को उत्तम वस्त्र सुगन्धित चन्दन लेप, फुल मालाएँ तथा उत्तम आभूषण भेंट में दिये। इस तरह दोनों विभुओं की पूजा करने के बाद उन्होंने अपने सिर से फर्श को स्पर्श करके नमस्कार किया। फिर वे कृष्ण के चरणों को अपनी गोद में लेकर दबाने लगे और नम्रभाव से अपना सिर नीचे किये कृष्ण तथा बलराम से इस प्रकार बोले।

17 अक्रूर ने कहा : यह तो हमारा सौभाग्य है कि आप दोनों ने दुष्ट कंस तथा उसके अनुचरों का वध कर दिया है। इस तरह आपने अपने वंश को अन्तहीन कष्ट से उबारकर उसे समृद्ध बनाया है।

18 आप दोनों आदि परम पुरुष, ब्रह्माण्ड के कारण तथा इसके सार हैं। जरा सा भी सूक्ष्म कारण या सृष्टि की कोई भी अभिव्यक्ति आपसे पृथक नहीं रह सकती।

19 हे परम सत्य आप अपनी निजी शक्तियों से इस ब्रह्माण्ड का सृजन करते हैं और तब उसमें प्रवेश करते हैं। इस तरह महाजनों से सुनकर तथा प्रत्यक्ष अनुभव करके मनुष्य आपको अनेक विभिन्न रूपों में अनुभव कर सकता है।

20 जिस प्रकार जड़ तथा चेतन जीव-योनियों में मूलभूत तत्त्व अपने को पृथ्वी इत्यादि अनेकानेक क़िस्मों के रूप में प्रकट करते हैं उसी तरह आप एक स्वतंत्र परमात्मा के रूप में अपनी सृष्टि के विविधतापूर्ण पदार्थों में अनेक रूपों में प्रकट होते हैं।

21 आप अपनी निजी शक्तियों (सत, रज तथा तम गुणों) से इस ब्रह्माण्ड का सृजन, पालन और संहार करते हैं, फिर भी आप इन गुणों द्वारा या इनसे उत्पन्न कर्मों द्वारा बाँधे नहीं जाते। चूँकि आप समस्त ज्ञान के आदि स्रोत हैं, तो फिर भौतिक कार्यकलापों द्वारा आपके बन्धन का कारण क्या हो सकता है?

22 चूँकि यह कभी प्रदर्शित नहीं हुआ है कि आप भौतिक शारीरिक उपाधियों से प्रच्छन्न हैं अतः निष्कर्ष रूप में यह समझना होगा कि शाब्दिक अर्थ में न तो आपका जन्म होता है न ही कोई द्वैत है। इसलिए आपको बन्धन या मोक्ष का सामना नहीं करना होता और यदि आप ऐसा करते प्रतीत होते हैं, तो यह आपकी इच्छा के कारण ही है कि हम आपको इस रूप में देखते हैं या कि हममें विवेक का अभाव है इसलिए ऐसा है।

23 आपने समस्त विश्व के लाभ के लिए प्रारम्भ में वेदों के प्राचीन धार्मिक पथ की व्याख्या की थी। जब भी दुष्ट व्यक्तियों द्वारा नास्तिकता का मार्ग ग्रहण करने के फलस्वरूप यह पथ अवरुद्ध होता है, तो आप दिव्य सतोगुण से युक्त कोई न कोई रूप में अवतरित होते हैं।

24 हे प्रभु, आप ही वह परम पुरुष हैं और आप अपने अंश समेत वसुदेव के घर में प्रकट हुए हैं। आपने देवताओं के शत्रुओं के अंश रूप राजाओं के नेतृत्व वाली हजारों सेनाओं का वध करके पृथ्वी का भार हटाने तथा हमारे कुल की ख्याति का विस्तार करने के लिए ऐसा किया है।

25 हे प्रभु, आज मेरा घर अत्यन्त भाग्यशाली बन गया है क्योंकि आपने इसमें प्रवेश किया है। परम सत्य के रूप में आप पितरों, सामान्य प्राणियों, मनुष्यों एवं देवताओं की मूर्ति हैं और जिस जल से आपके पाँवों को प्रक्षालित किया गया है, वह तीनों लोकों को पवित्र बनाता है। निस्सन्देह हे इन्द्रियातीत, आप ब्रह्माण्ड के आध्यात्मिक गुरु हैं।

26 जब आप अपने भक्तों के प्रति इतने स्नेहिल, कृतज्ञ तथा सच्चे शुभचिन्तक हैं, तो फिर कौन ऐसा विद्वान होगा जो आपको छोड़कर किसी दूसरे के पास जायेगा? जो लोग सच्चे साख्यभाव से आपकी पूजा करते हैं उन्हें आप मुँहमाँगा वरदान, यहाँ तक कि अपने आपको भी, दे देते हैं फिर भी आपमें न तो वृद्धि होती है न ह्रास।

27 हे जनार्दन, हमारे बड़े भाग्य हैं कि हमें आपके दर्शन हो रहे हैं क्योंकि बड़े बड़े योगेश्वर तथा अग्रणी देवता भी इस लक्ष्य को बड़ी मुश्किल से प्राप्त कर पाते हैं। कृपया शीघ्र ही सन्तान, पत्नी, धन, समृद्ध मित्र, घर तथा शरीर के प्रति हमारी मायामयी आसक्ति की रस्सियों को काट दें। ऐसी सारी आसक्ति आपकी भ्रामक एवं भौतिक माया का ही प्रभाव है।

28 श्रील शुकदेव गोस्वामी ने कहा : अपने भक्त द्वारा इस तरह पूजित तथा संस्तुत होकर भगवान हरि ने हँसते हुए अपनी वाणी से अक्रूर को पूर्णतया मोहित करके सम्बोधित किया।

29 भगवान ने कहा : आप हमारे गुरु, चाचा तथा श्लाघ्य मित्र हैं और हम आपके पुत्रवत हैं, अतः हम सदैव आपकी रक्षा, पालन तथा दया पर आश्रित हैं।

30 आप जैसे महात्मा ही सेवा के असली पात्र हैं और जीवन में सर्वोच्च मंगल के इच्छुक लोगों के लिए अत्यन्त पूज्य महाजन हैं। देवतागण सामान्यतया अपने स्वार्थो में लगे रहते हैं किन्तु साधु भक्त ऐसे नहीं होते।

31 इससे कोई इनकार नहीं करेगा कि अनेक तीर्थस्थानों में पवित्र नदियाँ होती हैं या कि देवताओं के अर्चाविग्रह मिट्टी तथा पत्थर से बने होते हैं। किन्तु ये सब दीर्घकाल के बाद ही आत्मा को पवित्र करते हैं जबकि सन्त पुरुषों के दर्शनमात्र से आत्मा पवित्र हो जाती है।

32 दरअसल आप हमारे सर्वश्रेष्ठ मित्र हैं अतः आप हस्तिनापुर जाँय और पाण्डवों के शुभचिन्तक के रूप में पता लगायें कि वे कैसे हैं।

33 हमने सुना है कि अपने पिता के दिवंगत हो जाने के बाद बालक पाण्डवों को उनकी दुखी माता समेत राजा धृतराष्ट्र द्वारा राजधानी में लाये गए थे और अब वे वहीं रह रहे हैं।

34 असल में अम्बिका का दुर्बल चित्त वाला पुत्र धृतराष्ट्र अपने दुष्ट पुत्रों के वश में आ चुका है अतएव वह अन्धा राजा अपने भाई के पुत्रों के साथ ठीक व्यवहार नहीं कर रहा है।

35 जाइये और देखिये कि धृतराष्ट्र ठीक से कार्य कर रहा है या नहीं। पता लग जाने पर हम अपने प्रिय मित्रों की सहायता करने की आवश्यक व्यवस्था करेंगे।

36 श्रील शुकदेव गोस्वामी ने आगे कहा : इस प्रकार से अक्रूर को पूरी तरह आदेश देकर संकर्षण एवं उद्धव के साथ भगवान हरि अपने घर लौट आये।

(समर्पित एवं सेवारत -  जगदीश चन्द्र चौहान)

 

E-mail me when people leave their comments –

You need to be a member of ISKCON Desire Tree | IDT to add comments!

Join ISKCON Desire Tree | IDT

Comments

This reply was deleted.