8007454690?profile=RESIZE_710x 

 

श्रीमदभागवतम प्रथम स्कन्ध

अध्याय सोलह --- परीक्षित ने कलियुग का सत्कार किस तरह किया

1 सूत गोस्वामी ने कहा : हे विद्वान ब्राह्मणों, तब महाराज परीक्षित श्रेष्ठ द्विज ब्राह्मणों के आदेशों के अनुसार महान भगवद्भक्त के रूप में संसार पर राज्य करने लगे। उन्होंने उन महान गुणों के द्वारा शासन चलाया, जिनकी भविष्यवाणी उनके जन्म के समय पटु ज्योतिषियों ने की थीं।

2 राजा परीक्षित ने राजा उत्तर की पुत्री इरावती से विवाह किया और उससे उन्हें ज्येष्ठ पुत्र महाराज जनमेजय सहित चार पुत्र प्राप्त हुए।

3 महाराज परीक्षित ने कृपाचार्य को अपना गुरु चुनने के बाद गंगा के तट पर तीन अश्र्वमेध यज्ञ किये। इन्हें आगंतुकों एवं निमंत्रितों को पर्याप्त दक्षिणा देकर सम्पन्न किया गया। इन यज्ञों में सामान्य लोग भी देवताओं का दर्शन पा सके।

4 एक बार, जब महाराज परीक्षित विश्व-दिग्विजय करने निकले, तो उन्होंने देखा कि कलियुग का स्वामी, जो शूद्र से भी निम्न था, राजा का वेश धारण करके गाय तथा बैल की जोड़ी के पाँवों पर प्रहार कर रहा था। राजा ने उसे पर्याप्त दंड देने के लिए तुरंत पकड़ लिया।

5 शौनक ऋषि ने पूछा : महाराज परीक्षित ने उसे केवल दंड क्यों दिया, जबकि वह शूद्रों में अधम था, उसने राजा का वेश बना रखा था तथा गाय पर पाद प्रहार किया था? ये सब घटनाएँ यदि भगवान कृष्ण की कथा से संबंधित हों तो कृपया इनका वर्णन करें।

6 भगवान के भक्त भगवान के चरणकमलों से प्राप्त मधु के चाटने के आदी हैं। उन कथा प्रसंगों से क्या लाभ जो मनुष्य के बहुमूल्य जीवन को व्यर्थ नष्ट करें?

7 हे सूत गोस्वामी, मनुष्यों में से कुछ ऐसे हैं, जो मृत्यु से मुक्ति पाने के और शाश्वत जीवन प्राप्त करने के इच्छुक होते हैं। वे मृत्यु के नियंत्रक यमराज को बुलाकर वध किये जाने की क्रिया से बच जाते हैं।

8 जब तक सबों की मृत्यु के कारण यमराज यहाँ पर उपस्थित हैं, तब तक किसी की मृत्यु नहीं होगी। ऋषियों ने मृत्यु के नियंत्रक यमराज को आमंत्रित किया है, जो भगवान के प्रतिनिधि हैं। उनकी पकड़ में आनेवाले सारे जीवों को भगवान की दिव्य लीलाओं की इस वार्ता के रूप में मृत्युरहित अमृत का श्रवण करने का लाभ उठाना चाहिए।

9 अल्प बुद्धि तथा कम आयु वाले आलसी मनुष्य रात को सोने में तथा दिन को व्यर्थ के कार्यों में बिता देते हैं।

10 सूत गोस्वामी ने कहा : जब महाराज परीक्षित कुरु-साम्राज्य की राजधानी में रह रहे थे, तो अपने राज्य की सीमा के भीतर कलियुग के लक्षणों को प्रवेश होते देखा। जब उन्हें इसका पता चला, तो उन्हें यह रुचिकर प्रतीत नहीं हुआ। लेकिन इससे उन्हें उसके विरुद्ध लड़ने का अवसर अवश्य प्राप्त हो सका। अतएव उन्होंने अपना धनुष-बाण उठाया और सैनिक कार्यवाही के लिए सन्नद्ध हो गये।

11 महाराज परीक्षित काले घोड़ों द्वारा खींचे जानेवाले रथ पर सवार हो गये। उनकी ध्वजा पर सिंह का चिन्ह अंकित था। इस प्रकार सुसज्जित होकर तथा सारथियों, अश्वारोहियों, हाथियों तथा पैदल सैनिकों से घिरे हुए, उन्होंने सभी दिशाएँ जीतने के लिए राजधानी से प्रस्थान किया।

12 तब महाराज परीक्षित ने पृथ्वी-लोक के समस्त भागों--भद्राश्र्व, केतुमाल, भारत, कूरुजांगल का उत्तरी भाग, किंपुरुष इत्यादि को जीत लिया और उनके शासकों से भेंटें वसूल कीं।

13-15 राजा जहाँ कहीं भी जाते, उन्हें निरंतर अपने उन महान पूर्वजों का यशोगान सुनने को मिलता, जो सभी भगवद्भक्त थे, तथा भगवान श्रीकृष्ण के यशस्वी कार्यों की गाथा सुनने को भी मिलती। वे यह भी सुनते कि किस तरह वे स्वयं अश्वत्थामा के ब्रह्मास्त्र के प्रचण्ड ताप से भगवान कृष्ण द्वारा बचाये गये थे। लोग वृष्णि तथा पृथा-वंशियों के मध्य अत्यधिक स्नेह का भी उल्लेख करते, क्योंकि पृथा भगवान केशव के प्रति अत्यधिक श्रद्धावान थी। राजा ने ऐसे यशोगान करनेवालों से अत्यधिक प्रसन्न होकर परम संतोष के साथ अपनी आँखें खोली। उदारतावश उन्होंने प्रसन्न होकर उन्हें मूल्यवान मालाएँ तथा वस्त्र भेंट किये।

16 महाराज परीक्षित ने सुना कि जिन भगवान कृष्ण (विष्णु) की आज्ञा का पालन सारा जगत करता है, उन्होंने अपनी अहैतुकी कृपा से पाण्डु के विनीत पुत्रों की उनकी इच्छानुसार सभी प्रकार से सेवाएँ कीं, जिनमें सारथी बनने से लेकर अग्रपूजा ग्रहण करने तथा दूत बनने, मित्र बनने, रात्री में रक्षक बनकर सेवाएँ करने के कार्य सम्मिलित हैं। उन्होंने सेवक की भाँति पांडवों की आज्ञा का पालन किया तथा आयु में छोटों की भाँति उन्हें प्रणाम किया। जब महाराज परीक्षित ने यह सब सुना, तो वे भगवान के चरणकमलों की भक्ति से अभिभूत हो उठे।

17 अब तुम लोग मुझसे वह घटना सुन सकते हो, जो तब घटी, जब महाराज परीक्षित अपने पूर्वजों की उत्तम वृत्तियों के विषय में सुनते हुए तथा उन विचारों में डुबे हुए अपने दिन बिता रहे थे।

18 साक्षात धर्म, बैल के रूप में विचरण कर रहा था। उसे गाय के रूप में साक्षात पृथ्वी मिली, जो ऐसी माता के समान शोकग्रस्त दिखाई पड़ी, जो अपना पुत्र खो चुकी हो। उसकी आँखों में आँसू थे और उसके शरीर का सौन्दर्य उड़ गया था। धर्म ने पृथ्वी से इस प्रकार प्रश्न किया।

19 धर्म ने (बैल रूप में) पूछा : हे महोदया, आप स्वयं स्वस्थ तथा प्रसन्न तो हैं? आप शोक की छाया से आवृत क्यों हैं? आपके मुख से ऐसा लगता है कि आप म्लान पड़ गई हैं। क्या आपको कोई भीतरी रोग हो गया है या आप अपने किसी दूर स्थित संबंधी के विषय में सोच रही हैं?

20 मेरे तीन पाँव नहीं रहे और अब मैं केवल एक पाँव पर खड़ा हूँ। क्या आप मेरी इस दशा पर शोक कर रही हैं या इस बात पर कि अब आगे अवैध मांस-भक्षक आपका शोषण करेंगे? या आप इसलिए दुखी हैं कि अब देवताओं को यज्ञ की बलि में से अपना हिस्सा नहीं मिल रहा, क्योंकि इस समय कोई यज्ञ सम्पन्न नहीं हो रहे? या आप दुर्भिक्ष तथा सूखे के कारण दुखी जीवों के लिए दुखित हो रही हैं?

21 क्या आपको उन दुखियारी स्त्रियों तथा बच्चों पर दया आ रही है, जिन्हें चरित्रहीन पुरुषों द्वारा अकेले छोड़ दिया गया हैं? अथवा आप इसलिए दुखी है कि ज्ञान की देवी अधर्म में रत ब्राह्मणों के हाथ में है? या यह आप देख कर दुखी हैं कि ब्राह्मणों ने उन राजकुलों का आश्रय ग्रहण कर लिया है, जो ब्राह्मण संस्कृति का आदर नहीं करते?

22 अब तथाकथित प्रशासक इस कलियुग के प्रभाव से मोहग्रस्त हो गये हैं और इस तरह उन्होंने राज्य के सारे मामलों को अस्त-व्यस्त कर रखा है। क्या आप इस कुव्यवस्था के लिए शोक कर रही हैं? अब सामान्य जनता खाने, पीने, सोने तथा सहवास के विधि-विधानों का पालन नहीं कर रही है और वह सारे कार्य कहीं भी और कैसे भी करने के लिए सन्नध्द रहती है। क्या आप इस कारण से अप्रसन्न हैं?

23 हे माता पृथ्वी, पूर्ण पुरुषोत्तम भगवान हरि ने तुम्हारे भारी बोझ को उतारने के लिए ही श्रीकृष्ण के रूप में स्वयं अवतार लिया। यहाँ के उनके सारे कार्य दिव्य हैं और वे मोक्ष-पथ को पक्का करनेवाले हैं। अब आप उनकी उपस्थिति से विहीन हो गई हैं। शायद अब आप उन्हीं कार्यों को सोच रही हैं और उनकी अनुपस्थिति में दुखी हो रही हैं।

24 हे माता, आप सारे धन की खान हैं। कृपया मुझे अपने उन कष्टों का मूल कारण बतायें, जिससे आप इस दुर्बल अवस्था को प्राप्त हुई हैं। मैं सोचता हूँ कि अत्यंत बलवानों को भी जीतनेवाले प्रबल काल ने देवताओं द्वारा वंदनीय आपके सारे सौभाग्य को छीन लिया है।

25 (गाय के रूप में) पृथ्वी देवी ने (बैल-रूप में) धर्म-रूप पुरुष को इस प्रकार उत्तर दिया :-- हे धर्म, आपने मुझसे जो भी पूछा है, वह आपको ज्ञात हो जायेगा। मैं आपके उन सारे प्रश्नों का उत्तर देने का प्रयास करूँगी। कभी आप भी अपने चार पाँवों द्वारा पालित थे और आपने भगवान की कृपा से सारे विश्व में सुख की वृद्धि की थी।

26-30 उनमें निम्नलिखित गुण तथा अन्य दिव्य गुण पाये जाते हैं, जो शाश्वत रूप से विद्यमान रहते हैं और उनसे कभी विलग नहीं होते। ये हैं :-- (1) सच्चाई, (2) स्वच्छता, (3) दूसरे के दुखों को सह न पाना, (4) क्रोध को नियंत्रित करने की शक्ति, (5) आत्मतुष्टि, (6) निष्कपटता, (7) मन की स्थिरता,(8) इंद्रियों का संयम, (9) उत्तरदायित्व, (10) समता, (11) सहनशीलता, (12) समदर्शिता,(13)आज्ञाकारिता, (14) ज्ञान, (15) इंद्रिय भोग से अनासक्ति, (16) नायकत्व, (17) बहादुरी, (18) प्रभाव, (19) असंभव को संभव बनाना, (20) कर्तव्य पालन, (21) पूर्ण स्वतंत्रता, (22) कार्य कुशलता, (23) सौंदर्यमयता, (24) धैर्य, (25) दयालुता, (26) उदारता, (27) विनय, (28) शील, (29) संकल्प, (30) ज्ञान की पूर्णता, (31) उपयुक्त दक्षता, (32) समस्त भोग विषयों का स्वामित्व, (33) प्रसन्नता, (34) स्थिरता, (35) आज्ञाकारिता, (36) यश, (37) पूजा, (38) निरभिमानता, (39) अस्तित्व (भगवान के रूप में), (40) शाश्वतता। समस्त सत्त्व तथा सौंदर्य के आगार पूर्ण पुरुषोत्तम भगवान श्रीकृष्ण ने इस धरा पर अपनी दिव्य लीलाएँ बंद कर दी हैं। उनकी अनुपस्थिति में कलि ने सर्वत्र अपना प्रभाव फैला लिया है। अतएव मैं संसार की यह दशा देखकर अत्यंत दुखी हूँ।

31 हे देवताओं में श्रेष्ठ, मैं अपने विषय में तथा आपके विषय में और उसी के साथ ही साथ सभी देवताओं, ऋषियों, पितृलोक के निवासियों, भगवद्भक्तों तथा वर्णाश्रम-धर्म के पालक सभी मनुष्यों के विषय में सोच रही हूँ।

32-33 सौभाग्य की देवी लक्ष्मीजी, जिनकी कृपा-कटाक्ष के लिए ब्रह्मा जैसे देवता तरसा करते थे और जिनके लिए वे दिन में अनेक बार भगवान के शरणागत होते थे, वे कमल-वन के अपने निवासस्थान को त्याग कर भी भगवान के चरणकमलों की सेवा में संलग्न हुई थीं। मुझे वे विशिष्ट शक्तियाँ प्राप्त हुई थीं, जिनसे मैं ध्वज, वज्र, अंकुश तथा कमल चिन्हों से, जो भगवान के चरणकमलों के चिन्ह हैं, अलंकृत होकर तीनों लोकों की संपत्ति को परास्त कर सकती थी। लेकिन अंत में, जब मैंने अनुभव किया कि मैं कितनी भाग्यशालीनी हूँ, तब भगवान ने मुझे त्याग दिया।

34 हे धर्म-पुरुष मैं नास्तिक राजाओं द्वारा नियोजित अत्यधिक सैन्य-समूह के भार से बोझिल हो उठी थी और अब भगवान की कृपा से उससे उबर सकी हूँ। इसी प्रकार आप भी कष्टप्रद अवस्था में थे और खड़े भी नहीं हो सकते थे। इस तरह आपको भी उबारने के लिए यदुवंश में वे अपनी अंतरंगा शक्ति से अवतरित हुए थे।

35 अतएव ऐसा कौन है, जो उन पूर्ण पुरुषोत्तम भगवान के विरह की व्यथा को सह सकता है? वे अपनी प्रेमभरी मीठी मुस्कान, सुहावनी चितवन तथा मीठी मीठी बातों से सत्यभामा जैसी प्रियतमाओं की गंभीरता तथा प्रणय क्रोध (हाव-भाव) को जीतनेवाले थे। जब वे मेरी (पृथ्वी की) सतह पर चलते थे, तो मैं उनके चरणकमल की धूल में धँस जाती थी और फिर घास से आच्छादित हो जाती थी, जो हर्ष से उत्पन्न मेरे शरीर पर रोमांच जैसा था।

36 जब पृथ्वी तथा धर्म-पुरुष इस प्रकार बातों में संलग्न थे, तो राजर्षि परीक्षित पूर्व की ओर बहनेवाली सरस्वती नदी के तट पर पहुँच गये।

(समर्पित एवं सेवारत – जगदीश चन्द्र चौहान)

E-mail me when people leave their comments –

You need to be a member of ISKCON Desire Tree | IDT to add comments!

Join ISKCON Desire Tree | IDT

Comments

  • 🙏🙏🙏🌹🌹🌹🌼🌼🌼🌺🌺🌺🌷🌷🌷🌷
This reply was deleted.