अध्याय 1: कुरुक्षेत्र के युद्धस्थल में सैन्यनिरीक्षण
  श्लोक 1 . 4

अत्र श्रूरा महेष्वासा भीमार्जुनसमा युधि |
युयुधानो विराटश्र्च द्रुपदश्र्च महारथः || ४ ||





अत्र - यहाँ; शूराः - वीर; महा-इषु -आसा - महान धनुर्धर; भीम-अर्जुन - भीम तथा अर्जुन; समाः - के समान; युधि - युद्ध में; युयुधानः - युयुधान; विराटः - विराट; - भी; द्रुपदः - द्रुपद; - भी; महारथः - महान योद्धा ।

भावार्थ


इस सेना में भीम तथा अर्जुन के समान युद्ध करने वाले अनेक वीर धनुर्धर हैं - यथा महारथी युयुधान, विराट तथा द्रुपद ।


तात्पर्य


यद्यपि युद्धकला में द्रोणाचार्य की महान शक्ति के समक्ष धृष्टदयुम्न महत्त्वपूर्ण बाधक नहीं था किन्तु ऐसे अनेक योद्धा थे जिनसे भय था । दुर्योधन इन्हें विजय-पथ में अत्यन्त बाधक बताता है क्योंकि इनमें से प्रत्येक योद्धा भीम तथा अर्जुन के समान दुर्जेय था । उसे भीम तथा अर्जुन के बल का ज्ञान था, इसीलिए वह अन्यों की तुलना इन दोनों से करता है ।

<< © सर्वाधिकार सुरक्षित , भक्तिवेदांत बुक ट्रस्ट >>




Note : All material used here belongs only and only to BBT .

For Spreading The Message Of Bhagavad Gita As It Is 

       By Srila Prabhupada in Hindi ,This is an attempt to make it available online

You need to be a member of ISKCON Desire Tree | IDT to add comments!

Join ISKCON Desire Tree | IDT

E-mail me when people leave their comments –