हिंदी भाषी भक्त-संग - Hindi

आज कल इंटरनेट के युग में हर कोई एक दूसरे से जुड़ा हुआ है । लेकिन अधिकाधिक अंग्रेज़ी का ही प्रयोग कि जाने की वजह से बहुत समय से  हिंदी भाषी भक्तों को एक कमी महसूस हो रही थी। 

ISKCON Desire Tree की ऒर से एक छोटा सा प्रयास है की हम हिंदी भाषी भक्तो के बीच भी पहुंचें और भाषा की बाधा के कारण इंटरनेट पर साधू-संग से वंचित हो रहे भक्तों को एक साथ एक ही मंच पर ला सकें । 

आप सभी से अनुरोध है की अधिक से अधिक भक्तों  को इस से जोड़ें एवं इस सुविधा का लाभ लेने के लिए प्रेरित करें । 

  • Distribution book

    मृदंगों और कर्तलों के साथ हरे कृष्ण का जप…। यह कीर्तन भी है; जब आप पुस्तकों को वितरित करते हैं, तो वह भी कीर्तन है

    By Darshan Pandya

    0
  • पवित्र नाम की शक्ति

    एक बार अकबर और उनके मंत्री बीरबल जंगल के रास्ते से जा रहे थे। लम्बी दूरी की यात्रा करके वे इतने थक गए तो उन्होंने एक पेड़ के नीचे बैठने का निश्चय किया। लम्बी यात्रा के पश्चात उनको भूख लगी तब अकबर ने बीरबल को कहा, "बीरबल चलो देखते हैं पास में कोई नगर होगा तो कुछ भूख मिटाते हैं, वैसे भी इस जंगल में…

    By ved pathak

    0
  • नारद मुनि और शिकारी मृगारी

    एक बार देवर्षि नारद मुनि भगवान से मिलने बैकुंठ गए। उसके पश्चात वे त्रिवेणी संगम (प्रयाग इलाहबाद) में पवित्र स्नान किये। त्रिवणी जहाँ तीनो पवित्र नदियों का संगम अर्थात गंगा जी, जमुना जी और सरस्वती जी का मिलाप होता है। स्नान करने के पश्चात वे जंगल के रास्ते से गुजर रहे थे, वहां उन्होंने अधमरे भालू,…

    By ved pathak

    0
  • भगवन के दास का दास बनने की महिमा

    आप सभी को हरे कृष्णा, एक जंगल में एक संत अपनी कुटिया में रहते थे। एक किरात (शिकारी), जब भी वहाँ से निकलता संत को प्रणाम ज़रूर करता था।एक दिन किरात संत से बोला की मैं तो मृग का शिकार करता हूँ,आप किसका शिकार करने जंगल में बैठे हैं.? संत बोले - श्री कृष्ण का, और रोने लगे। तब किरात बोला अरे, बाबा रोते…

    By ved pathak

    0
  • पूर्ण विश्वास

    हरे कृष्णएक बार एक नगर में जहाँ अत्यंत ही सूखा पड़ा था जहाँ कई वर्षों से वर्षा नहीं हो रही थी, लोंगो ने बैठक बुलाई और सभी ने निश्चय किया की हमे यज्ञ करना चाहिए।सभी ने एक दूसरे के विचार की सहमति जताकर एक दिन निश्चित किया और सभी उपस्थित होकर यज्ञ करने लगे। एक बृद्ध व्यक्ति जो की अपने साथ छाता लेकर…

    By ved pathak

    0

  • E-Counselor

    गीता के कुछ महत्वपूर्ण श्लोक

    क्या आपके पास भगवद-गीता है ? अगर नहीं है तो जरुर लीजिये, ये आपके जीवन से जुडी कई समस्याओं और प्रश्नों को हल कर सकती है । गीता के कुछ महत्वपूर्ण श्लोक जो आपके कई प्रश्नों को सुलझा सकते हैं ?१.…

    By IDT E-Counselor - Hindi

    1
  • प्रभु श्री राम और केवट

    Hare Krishna to all,क्षीरसागर में भगवान विष्णु शेष शैया पर विश्राम कर रहे हैं और लक्ष्मी जी उनके पैर दबा रही हैं। विष्णु जी के एक पैर का अंगूठा शैया के बाहर आ गया और लहरें उससे खिलवाड़ करने लगीं।क्षीरसागर के एक कछुवे ने इस दृश्य को देखा और मन में यह विचार कर कि मैं यदि भगवान विष्णु के अंगूठे को…

    By ved pathak

    0
  • कृष्ण सेवा

    हरे कृष्ण माताजी एवं प्रभुजी ,हम भगवान के अंश होने के कारण हमेशा किसी न किसी की सेवा करते हैं। सेवा करना हमारा स्वाभाव है क्यूंकि अंशी को अंश की सेवा करनी होती है। अगर हम किसी इंसान की सेवा नहीं करते तो कुत्ते अथवा बिल्ली पाल लेते हैं। पर यहाँ सेवा हमें किसकी करनी चाहिए यह जानना है। वास्तव में हम…

    By ved pathak

    0
  • भगवद्गीता हिन्दी pdf

    हिन्दी भगवद्गीताhttp://gloriousgita.com/wp-content/uploads/2015/09/BhagavadGitaInHindiPDF.pdf

    By Akshay P

    0
  • श्री चैतन्य महाप्रभु और अनपढ़ ब्राम्हण

    श्री चैतन्य महाप्रभु दक्षिणी भारत की यात्रा कर रहे थे| एक दिन वे श्री रंगनाथ मंदिर पहुँच गए| उन्होंने वहा पर देखा की एक साधारणसा ब्राम्हण श्रीमद्भागवद्गीता पढने में तल्लीन था| उसके नेत्र अश्रुओंसे से भर चुके थे| ब्राम्हण के इस गीतापठन को देख श्री चैतन्य महाप्रभु आनंद से भाव विभोर हो गए| वहा उपस्थित…

    By Akshay P

    0